Monday, September 23, 2019

फीवर के लिए कुछ अचूक होमियोपैथी दवाएं जिन्हें आप घर में रख सकते हैं / few best medicine for fever you should keep in your FAB

बरसात का अंत और जाते जाते वायरल फीवर का दस्तक ,आने वाले त्यौहार का मजा किरकिरा न होने दें कुछ मामूली से उपाय जिससे आप और आपके प्रियजन वायरल से न सिर्फ बचे बल्कि लोगो को भी शेयर कर  जागरूक कर दें छोटा सा प्रयास भर  है  |


डेंगू, चिकनगुनिया ,सर्दी जुकाम, पॉक्स,  पेट में दर्द वोमिटिंग के साथ, टाइफाइड  सभी से हम परहेज कर के   बच सकते हैं |

    Image may contain: text
  • पहला जो सुनते आये हैं आस पास के  जगह में साफ़ पानी इकठा न होने दें क्यूँ की साफ़ पानी में ही डेंगू का लार्वा पनपता है और बिकसित होता है |
  • सोने वक़्त नेट या गुड नाईट आल आउट या कोई भी MOSQUITO REPELLENT का प्रयोग जरूर करें 
  • साफ़ सफाई पर आज कल सरकार और हर किसी का विशेष ध्यान है इस पर धयान देना जरूरी है |
  • बहार का खाना और पानी इनदिनों आपको बीमार कर सकता है क्यूँ की अभी का वातावरण  फफूंद क लिए उपयुक्त होता और खाना जल्दी ख़राब हो जाने से  वो पेट दर्द वमन का का कारण होता है |इस लिए अभी बचे |
  • फुल और पुरे बाजू के कपडे पहने ताकि दिन में भी मछर आपको बाहर न काटे |
  • हो सके तो ताजे फलों का सेवन करें  मौसमी फल आपको रोग से लड़ने क लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएगा |
  • पानी उबाल कर क ठंडा कर के पीना सही रहेगा चाहे आप RO का ही पानी क्यूँ न पिते  हों |
आईये कुछ दावा जाने जो वायरल फीवर के आक्रामक प्रकृति से बचा सकता है |  

सबसे पहली  दावा है 
  1. EUPATORIUM PERFOLIATUM 200 : एक प्रकार का पौधा जो अमेरिका और कनाडा में मिलता है उससे उसका अर्क यानि रस को निचोड़ कर उसको एक खास बिधि द्वारा २०० पॉवर/ पोटेंसी  की दावा बनायीं जाती है | आज कल आप फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर बहुत नाम सुना होगा की खाने से डेंगू नहीं होता और आपने शेयर भी किया होगा |तो इसमें कुछ बाते तो भ्रामक है और कुछ सही |इस दावा का लक्षण होता है ऐसा दर्द मानो शारीर कुचल दिया गया हो और सभी हड्डी टूट रही हो जो डेंगू हो जाने का बाद का लक्षण है सुरुआत के दिनों में | यहाँ पर इस दावा का बेजोड़ क्रिया है और यहाँ  इसका प्रयोग जरूर करना चाहिए |जब बुखार आएगा उस वक़्त शरीर का दर्द बढ़  जाता है उस वक़्त इसका २-३ बूद १०-१० मं के अंतराल पर देने से बहुत लाभ होता है |आप इसका प्रोयोग डेंगू होने से पहले नहीं करें क्यूँ की होमियोपैथी में LIKE CURE LIKE का सिद्ध्नत है | क्यूँ की डेंगू भी एक इन्फ्लुएंजा का रूप है तो INFLUENZIUM 200 ले सकते हैं | फिर भी अगर आप EUPATORIUM PERF 200 लेना चाहते हैं तो आप जादा से जयादा ३ खुराक ही ले २ बूँद ३ दिन तक एक बार खाली पेट बस |क्यूँ की जादा दावा डेंगू जैसे लक्षण ला सकता है आपके अन्दर  |
  2. RHUS TOXICONDRON 200 : इस दावा का भी हड्डी क ऊपर बहुत अच्छा प्रभाव है  लेकिन दोनों में ये अंतर है की ये जॉइंट यानो जोड़  पर जादा काम करता है यानी अगर फीवर के समय लम्बे हड्डी यानि LONG BONE जैसे FEMUR या ऐसे समझे तो दो जोइम्ट्स क बिच में जो हड्डी होती है उसमे दर्द है तो  उसपर EUPATORIUM PERP  का एक्शन है और जोड़ो पर रहस टक्स का इस लिए डेंगू में या जहाँ पुरे बदन में दर्द हो ,टेंडन/ मांस पेशियों / हड्डी  उस वक़्त ये दोनों दावा को साथ देने से काफी लाभ मिलता है |
  3. BAPTISIA Q :ये टाइफाइड की बेजोड़ दावा है | आप इसे १० बूद ३ बार कर क टाइफाइड के समय ले सकते हैं |
  4. CARICA PAPAYA : हाँ अगर आपको कोई  दावा डेंगू या फीवर से बचने क लिए लेना है तो आप ये ले सकते है ये आपका PLATELETS COUNTS को सामान्य रखता है अगर गिर रहा है तो बढ़ा देता है |साथ में आप TINOSPORA Q भी ले सकते है दोनों को मिक्स कर के १० बूँद तीन बार हाफ कप पानी क साथ पी सकते हैं |
बहुत सी और दवाएं हैं जिनका लक्षण के  आधार पर चुनाव किया जाता है |और सभी को बता पाना भी संभव नहीं है |फिर भी मेरा सलाह यही रहेगा की कितना भी आप इन्टरनेट से जान ले लेकिन पारंपरिक बात यानि डॉक्टर के सलाह के बगैर न कोई दावा सेवन करें न  खुद से अपना इलाज करें क्यूँ की डॉक्टर भी खुद अपने डॉक्टर मित्र से ही पूछ कर ही दावा लेता  है 



#mahaveerhomoeopatna 
#drmayankmadhu
#shivpuriclinic | 







Saturday, September 21, 2019

few medicine must have if you have a child / कुछ दवाईयां जरुर रखे अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं .

होमियोपैथी की कुछ महत्वपूर्ण दवाईया some important medicine of homeopathy for children
bedside medicine for homoeopthy




हर घर में 5 साल से छोटे बच्चे मिल जायेंगे और उन्हें छोटी मोटी बीमारियाँ लगी रहती हैं आईये जाने कुछ ऐसी ही दावा जो हर घर में होनी ही चाहिए ताकि रात के समय या इमरजेंसी में डॉक्टर न मिलने पर बहुत काम आये






सबसे पहला दावा है
  1. Aconite Napalis 30  कुछ भी अचानक से हो जाए जैसे अभी आपका बच्चा खेल रहा था या सो रहा था और लगा रोने कुछ समझ नहीं रहा की क्यूँ रो रहा है उस वक़्त आपको एक बार aconite nap 30 के बारे में सोचना चाहिए बहुत अच्छा फायदा होता बच्चा सो जाता है थोड़े देर में | 
दावा देने की बिधि गोली में अगर देते हैं तो १-१ घंटा पर ४ -४ गोली और बूँद में देते हैं तो  १-१ बूँद एक एक घंटा पर |

2. Belladonna 30 ये दावा भी पहले वाले ही दावा की  ही तरह एक्यूट यानि अचानक होने वाले बिमारियों को ठिक करता है जैसे बच्चे में mumps,tonsillitis पेट में दर्द कान में दर्द गले में दर्द |दावा देने की बिधि गोली में अगर देते हैं तो १-१ घंटा पर ४ -४ गोली और बूँद में देते हैं तो  १-१ बूँद एक एक घंटा 

3.Arnica montana 30  छोटे बच्चे अक्सर बिसतर से गिर जाते हैं चलने वक़्त गिर जाना या किसी भी तरह का चोट लग जाने में बहुत ही कारगर दावा है हर घर में ये दावा जरूर होनी चाहिए ये चोट लगने वाले जगह को काला होने नहीं देता है खून के थक्का को घुला कर उस जगह को ठीक कर देता है और दर्द तो मनो छु मन्त्र हो जाता है |देने की बिधि गोली में अगर देते हैं तो १-१ घंटा पर ४ -४ गोली और बूँद में देते हैं तो  १-१ बूँद एक एक घंटा 

4.CINA 200 ये दावा छोटे बच्चो में क्रीमी होने नहीं देता  है बार बार रोना चिचिडा होना भूख न लगना और यदि लगता भी है तो शरीर नहीं बनना उस में CINA 200 बहुत मददगार होता है |देने की बिधि गोली में अगर देते हैं तो १-१ घंटा पर ४ -४ गोली और बूँद में देते हैं तो  १-१ बूँद एक एक घंटा 

5.CHAMMOMILA 30 छोटे बच्चो का बहुत ही चिचिडापन ख़ास कर गोद में हमेशा रहना चाहता है | मारना पिटते रहना हमेशा ही खिन्न रहना | खाना खाने में नखरा करना उदास रहना |देने की बिधि गोली में अगर देते हैं तो १-१ घंटा पर ४ -४ गोली और बूँद में देते हैं तो  १-१ बूँद एक एक घंटा 


फिर भी अगर ठीक न हो तो डॉक्टर हो जरूर दिखा ले और दावा डॉक्टर के  निगरानी में ही लें |
https://www.facebook.com/drmayankmadhu

ये भी पढ़े
https://drmayankmadhu.blogspot.com/2019/09/urinary-tract-infection-uti-yeast.html



पूरा पढने के लिए शुक्रिया |
लाइक  कमेंट और शेयर करना न भूलें |



#mahaveerhomoeopatna 
#drmayankmadhu
#shivpuripatna 



Friday, September 20, 2019

क्या आप अपना लीवर डैमेज कर रहे हैं है ? Are you damaging your liver ?


क्या आपको पता है की सुगर सिर्फ दांतों को ही नहीं खराब करता है बल्कि आपके  लीवर को भी ख़राब करता है हमारा लीवर फ्रुक्टोस fructose से फैट बनाता  है. बहुत जादा रिफाइंड सुगर और फ्रुक्टोस कॉर्न सिरप आपके लीवर क लिए उतना ही नुकसानदेह हो सकता है जितना अल्कोहल यही यानि शराब alcohol.हमें अपने खाने में पेस्ट्री कैंडी सोडा का प्रयोग कम से कम करना  चहिये |
source vid wikipidia 

supplements herbal/ हर्सबल प्लिमेंट्स   

चाहे क्यूँ न उसपर ये लिखा हो की पूरी तरह से नेचुरल है फिर भी आपके लिए नुकसानदेह है  और आपके लिए सही नहीं है |कुछ लोग कावा कावा का प्रयोग करते हैं menupause में पर ये लीवर को नुकसान पहुचता है 
कभी कभी हेपेटाइटिस और लीवर फेलियर को न्योता दे देता है |इस लिए हर्बल भी आपके लीवर लिए हानिकारक हो सकता है |  


vitamins विटामिन्स 
हमारे शारीर को विटामिन्स  की जरूरत है पर अगर वो ताजे फल और सब्जी से मिल जाए तो अच्छा है |खास कर के रंगीन फल और सब्ज्जी |विटामिन ए का सप्लीमेंट आपके लीवर के लये सही नहीं है |क्यूंकि वो आपको अलग से  लेने के लिए जरूरी नहीं है 

fat मोटापा
हमारे शरीर में लीवर में फैट बनता है पर अगर एक्स्ट्रा यानि जादा बन्ने लगे तो non alcoholic fatty liver disease हो सकता है जो बाद में एक scar का रूप ले सकता है जिसे हम liver cirrhosis  कहते हैं | अच्छा खाना और व्यायाम आपको बीमार होने से  बचा सकता है  |


soft drinks सॉफ्ट ड्रिंक्स / डब्बा बंद खाना 
शोध में ये पाया गया है की जो लोग कोला सॉफ्ट ड्रिंक्स का जादा सेवन करते हैं उन्हें non alcoholic fatty liver disease  का खतरा बढ़ जाता है | और सुगर लेवल भी और आप जान चुके हैं की सुगर से लीवर का क्या सम्बन्ध है |डब्बा बंद खाना जैसे चिप्स वेफर्स या चॉकलेट हमारे लीवर क लिए सही नहीं है |


Pain killers  /   पैन किलर्स  / दर्द निवारक दावा 
इन दवाओ का बहुत ही जयादा दुष्प्रभाव  है |इन दवाओ में acetaminophen होते हैं जिसका हमारे लीवर पर बहुत ही जयादा हानिकारक प्रभाव होता हैं | 
आप अपने लीवर का ख्याल रखीये और कोई लीवर सम्बन्धी समस्या या पेट से सम्बन्धी बीमारी से आप परेशान हैं तो https://www.facebook.com/drmayankmadhu/ आकर अपना सही इलाज प्राप्त कर सकते हैं |अगर आप कब्ज़ गैस पेट के किसी भी रोग से पीडित हैं तो आप जरूर एक बार दिखा लें |
होमियोपैथी में लीवर की एक से बढ़ कर एक अतुल्निय दावा है जो लीवर कैंसर के रोगियों तक को जीवन दान दे सकती है फ़ोन उठाईये और नंबर  लगाईये|




यहाँ देखे : https://www.facebook.com/drmayankmadhu/
#mahaveerhomoeopatna
#drmayankmadhu
#shivpuripatna
#besthomoeopathicclinic



Thursday, September 12, 2019

कैसे जाने आपके बच्चो को मधुमेह है ? डायबिटीज

कैसे जाने आपके बच्चो को मधुमेह  है ? डायबिटीज 





diabetes in children 

हम ,आप क्या अपने बच्चे का कभी सुगर लेवल पर ध्यान देते हैं  ? शायद  नहीं |
हमें ये पता भी न चले  अगर  वो जब तक स्वस्थ रहे  |फिर भी कुछ लक्षण है जिससे आप ये अंदाज लगा सकते  की उसे डॉक्टर को दिखाया जरूरी है |





कुछ लक्षण जो आप देख कर पहचान सकते हैं |

जैसे  अगर आपका  बच्चा  आइसक्रीम खाया है तो थोड़े देर के  लिए  ही उसका  सुगर लेवल बढेगा  
और ये  सामान्य है पर यदि कुछ  भी खाने  के बाद सुगर लेवल बढा रहता है तो निश्चित तौर पर उसे  डायबिटीज की जाच की जरूरत है |




आईये कुछ लक्षक ण देखे  जिससे आपको पता  चले की आपके बच्चे  को डायबिटीज  के  लक्षण हैं |





  • हमेशा वाशरूम जाने के  लिए बोलना  : करण यूरिन से ग्लूकोस का बाहर निकलने  के  लिए   

  • हद से जयादा प्यास रहना  क्यूँकी अगर जयादा यूरिन त्याग के करण प्यास भी अधिक लगेगा |

  • वजन का घटना अच्छे  से भोजन करने क बाबजूद  वजन घाट जाना  |
  • थकान  चिडचिडा रहना  हमेशा ही |
  • कुछ बच्चो के  दृष्टी में  परेशानी रहती है |
  • लड़कियों में भी  यूरीनलइन्फेक्शन  हो जाता है| क्यूँ की (यीस्ट ) ग्लूकोस पर काम करता  


   ये भी पढ़ें  : https://drmayankmadhu.blogspot.com/2019/09/blog-post.html


कुछ लो ब्लड सुगर के लक्षण |

आपको भले ये लगे की हाई ब्लड सुगर से अच्छा लो ब्लड सुगर है पर ये  पूरी तरह सच नहीं है  |
पर अगर आपके बच्चे का ब्लड सुगर कम है तो इसका मतलब उसको सही तरीके से  खाना नहीं मिला रहा  |
अगर इसके  बाद  भी अगर ब्लड  सुगर  लो  रहता है तो इसका मतलब है की आपको डॉक्टर
https://www.facebook.com/drmayankmadhu/ से मिलना  चाहिए |
ब्लड सुगर लो रहने से  बच्चो में seizer या ब्रेन डैमेज हो सकता है |
अगर ब्लड सुगर यानि हाइपोग्लाइसीमिया है तो हो सकता है आपका बच्चे  बिना  कुछ खाना खाए ही खेलने  चला गया हो |तो खुद से बिना कुछ सोचे समझे अपने बच्चे  को दावा न दें | बल्कि डॉक्टर से जरूर  मिले  |














www.drmayankmadhu.com

Sunday, September 8, 2019

सर दर्द / Headache

सर दर्द  Headache 


सर  दर्द एक ऐसी समस्या  है जिसे हर किसी को दो चार हो ना पड़ता  है कभी न कभी | शुरू में इसे  मामूली सोच कर हम अक्सर बोलते हैं थोड़े देर सो लेता हूँ ठीक हो जाएगा और हम इसे अनदेखा कर देते हैं | किन्तु वास्तविक्ता यह है की सर दर्द एक गंभीर विषय है जिसपर धयान देने की जरूरत है |ज्यादा ये महिलाओं को तंग करता है | खास कर वैसी महिलाएं जिन्हें जयादा जिम्मेदारी निभानी पड़ती है |
कुछ कारण सर दर्द के  निचे है क्या  आपमें  भी है तो |

  1. तनाव 
  2. अनिंद्र 
  3. उच्च रक्त चाप 
  4. धुप में  या सूर्य की रौशनी से दर्द  
  5. डर 
  6. चोट 
  7. कब्जियत 
  8. स्पॉन्डिलाइटिस
  9. ब्रेन में  कोई आबुर्द (tumour ) 

किस तरह का  दर्द  हो सकता  हैं आपको 




  1. सर के अग्र भाग का दर्द 
  2. सर के पिछले भाग का दर्द 
  3. अर्ध कपाल का  दर्द  
  4. आंख कान नाक के  कारन दर्द 
  5. सर  में  चोट के कारण दर्द

धयान देने योग्य बात 



  • मामूली व सुरु में होने वाली हलकी दर्द  को नज़र अंदाज़ न करें 
  • अपनी आँखों की दृष्टी दन्त कान नाक की समस्याओं को धयान में रखते हुए  सही समय पर उपचार कराएँ 
  • रात को देर तक जागना न करें 
  • रक्त चाप को नियंत्रण में  रखे 
  • जुकाम से बचे 
  • जादा चिंता न करें 
  • कब्ज़ गरिस्ट खाना क्रोध जादा परिश्रम से बचे 
  • और चिकित्सक को जरूर दिखाएँ 
  • खुद से  ईलाज न करें 

आईये जानते हैं कुछ होमियोपैथी दवाईया जो आपके  बहुत   काम  आ सकती है |

  • अगर सूर्य  की  रौशनी से बढे  तो : बेलाडोना , ग्लोनायिन  नैट्रम मूर,
  • अर्ध्कपाल में  : सन्गुइनरिआ,  सीपिया 
  • पढने  में सर दर्द : नैट्रम मूर, फोस 
#mahaveerhomoeopatna
#bestformigraininpatna
#headache

आप इस को निचे दिए गए लिंक पर सुन भी सकते हैं |